एबी डिविलियर्स ने बताई वो ‘वजह’ जिसके चलते मात्र 34 साल की उम्र में लिया संन्यास

क्रिकेटर एबी डिविलियर्स महान क्रिकेटरों में से एक रहे है। इन्होंने 2004 में जोहान्सबर्ग टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी। इन्होंने तब से पीछे मुड़ कर नहीं देखा और अपने करियर में आगे ही बढ़ते गए। हालांकि, इन्होंने आज ही क्रिकेट के हर फोर्मेट से सन्यास की घोषणा कर दी है।

Advertisement

दक्षिण अफ्रीका जुलाई में श्रीलंका के खिलाफ एक टेस्ट, ओडीआई और टी 20 अंतराष्ट्रीय श्रृंखला खेलने के लिए तैयार है और डीविलियर्स के सन्यास की घोषणा टीम के लिए इस दौरे के लिए बड़ा झटका है। ए बी डीवीलीयर्स ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट मैच, 228 वनडे मैच और 78 टी-20 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले है। इनका प्रदर्शन सभी फॉर्मेट में काफी शानदार रहा है। इनके नाम 47 शतक दर्ज है।

इन्होने अपना पहला शतक 2008 मे भारत के अहमदाबाद मे भारत के खिलाफ लगाया था।साल 2010 में पाकिस्तान के खिलाफ आबु धाबी मे एबी डीवीलीयर्स ने 278 रन बनाए थे।इसके अलावा 2016 मे इन्होने वेस्ट इंडीज़ के खिलाफ 31 गेंद पर सबसे तेज शतक जड़ा था।

इन्होने दक्षिण अफ्रीका के लिए तीन विश्व कप मे हिस्सा लिया है।2007,2011 और 2015 मे इन्होने दक्षिण अफ्रीका के लिए विश्व कप मे हिस्सा लिया था।

क्रिकेटर थोड़ी देर के लिए चोटों से पीड़ित हुए थे। इन्होंने पिछले साल जिम्बाब्वे के खिलाफ चार दिवसीय डे-नाइट टेस्ट मैच खेला था। जिसने लगभग दो वर्षों के अंतराल के बाद सबसे लंबे प्रारूप में अपनी वापसी की थी। इन्होंने इसके बाद भारत के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला खेली, लेकिन उंगली की चोट के कारण ओडीआई श्रृंखला में सभी मैच नहीं खेल सके।

34 वर्षीय एबी डिविलियर्स ने हाल ही में विराट कोहली के नेतृत्व में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) के लिए अपना प्रदर्शन किया है। इन्होंने अपनी टीम के लिए कुछ मैच जीताऊ दस्तक खेली है।

एबी ने वीडियो पोस्ट करते हुए अपने संन्यास का कारण बताते हुए कहा,

114 टेस्ट मैच, 228 वनडे मैच और 78 टी-20 मैच खेलने के बाद अब समय आ गया है, कि मैं संन्यास ले लू. ईमानदारी से कहू, तो मैं अब थका गया हूं और इसी वजह से मैं अब क्रिकेट से संन्यास लेना चाहता हूं|

एबी ने आगे अपने बयान में अपने संन्यास का सही समय बताते हुए कहा,

मैं जनता हूं कि यह मेरे लिए एक बहुत मुश्किल फैसला है, लेकिन मैं अब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेना चाहता हूं. हमने हाल ही में भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज जीती है, इसलिए मुझे लगता है, कि मेरे संन्यास लेने का यह सही समय है. मेरे लिए अब यह सही नहीं होगा, कि मैं किसी एक फॉर्मेट को साउथ अफ्रीका के लिए खेलने को चुनू

Advertisement