टॉयलेट में छिपने के बाद करोड़पति बना ये क्रिकेटर, अब हर जगह हो रही है वाहवाही.

आईपीएल 11 की नीलामी खत्म हो चुकी है, इसमे बहुत ही दिलचस्प फैसले देखने को मिले है। हम सभी को इस नीलामी का बहुत दिनो से इंतजार था और इस नीलामी का एक दिन खत्म भी हो गया।कई बड़े नामो को नई टीमे मिली तो कई खिलाड़ियों को उनकी पुरानी टीमो ने राइट टू मैच के तहत खरीदा।

हम सब जनते हैं कि भारतीय क्रिकेट इतिहास मे आईपीएल बहुत बड़ा मंच है और इस टूर्नामेंट ने अपने पिछले दस सीज़न मे कई दिलचस्प कारनामे किए है और दर्शको का दिल लुभाया है ।आईपीएल 11 की शुरुआत 7 अप्रैल से होनी है और 27 मई को इस टूर्नामेंट की समाप्ति होनी है ।

इस नीलामी पर सभी देशो के खिलाड़ियों की नजर थी। हम सब जानते है इस नीलामी प्रक्रिया मे करोड़ों रुपयो का लेनदेन होना था और जैसे उम्मीद लगाई जा रही थी ठीक वैसा ही इस नीलामी मे हुआ।

Advertisement

आइए आप सभी को आईपीएल के बारे मे विस्तार से बताते है ,भारत मे क्रिकेट का सबसे बड़ा मंच है आईपीएल,जिसमे कई खिलाड़ियों ने अपने टैलेंट को उभार कर सबके सामने रख दिया है और यह ऐसा मंच है जहा परफॉर्म करने पर भारतीय टीम मे जगह मिल सकती है। आईपीएल के हर साल नया संस्करण होता है,इस नए संस्करण के साथ कुछ ना कुछ टीमो मे बदलाव आते ही है और इस नए संस्करण के साथ कुछ ना कुछ रोमांच जरुर आता है ।

Advertisement

अंडर 19 विश्व कप मे भाग ले रहे सभी युवा खिलाड़ियों पर सभी की नजरे थी, माना जा रहा था की पृथ्वी शॉ को सबसे ज्यादा पैसे मिलेगे परंतु ऐसा नही हुआ शुभमन गिल ने सबका ध्यान खींचा ओर सबसे ज्यादा पैसे प्राप्त किए बल्लेबाजो मे।

वही अगर हम गेंदबाजो की बात करे तो सबसे ऊपर नाम था कमलेश नागरकोटी का जो अपनी सटीक लाईन और स्पीड के लिए माने जा रहे है ।कमलेश नागरकोटी के लिए अधिकतम सभी टीमो ने बोली लगाई परंतु आखिर मे जिस टीम ने बाजी मारी वह टीम कोलकत्ता नाईट राइडर्स रही ।

कमलेश नागरकोटी का बेस प्राइस 20 लाख था और कोलकत्ता नाइट राइडर्स ने इस युवा और प्रतिभाशाली खिलाड़ी को 3 करोड़ 20 लाख रुपयो मे खरीदा। एक युवा सितारे के लिए यह बहुत बड़ी जीत है और यह सच मे कमलेश के लिए बहुत बड़ी जीत है ।कमलेश नागरकोटी ने पहला पड़ाव पूरा कर लिया है अब इन्हे भारतीय टीम मे शामिल होने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी।

एक इंगलिश वेबसाइट को बयान देते हुए नागरकोटी ने कहा कि उनकी बोली जब लग रही थी तब यह नर्वस थे और वॉशरुम मे जाकर छिप गए थे।नागरकोटी ने बताया कि जैसे ही उनका नाम पुकारा गया वह टेंशन मे आ गए और उन्हे समझ नही आया कि क्या करे इस चक्कर मे वह अपनी टेन्शन को दूर करने के लिए वॉशरुम मे छिप गए थे।

 

Advertisement