भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच 3 टेस्ट मैचो की सीरीज के पहला टेस्ट 5 जनवरी को कैपटाउन के न्यूलैंड्स में खेला जाएगा. टेस्ट सीरीज में तेज गेंदबाजो की मददगार विकेट मिलने की उम्मीद जताई जा रही हैं, हालाँकि कैपटाउन टेस्ट से पहले पिच रिपोर्ट सामने आने से भारतीय टीम को कुछ राहत जरुर मिलेगी.

सोमवार को सामने आई रिपोर्ट के अनुसार भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जाने वाले पहले टेस्ट के दौरान शायद उस तरह का उछाल न देखने को मिले, जिसकी तेज गेंदबाज़ उम्मीद कर रहे हैं.

पहले टेस्ट पर सीखेगा सूखे का असर

फाइल फोटो
5 जनवरी से खेले जाने वाले पहले टेस्ट में सूखे का असर देखने को मिल सकता हैं. कई वर्षों में खराब सूखे ने मैदान कर्मियों के लिए घरेलू टीम की मददगार पिच तैयार करने में कठिनाई पैदा की हैं. रिपोर्ट के मुतबिक यहाँ के लोगों को प्रतिदिन 87 लीटर से ज्यादा पानी का इस्तेमाल नहीं करने को कहा गया है.

Advertisement

न्यूलैंड्स में बोरहोल-वाटर सप्लाई प्रणाली है, हालाँकि  मैदानकर्मी इवान फ्लिंट ने क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो से कहा है, कि चीजें काफ़ी कठिन हो सकती हैं.

Advertisement

ग्राउंड्समैन इवान फ्लिंट ने कहा, “पिच पर हम नॉर्मली प्रतिदिन बोरहोल सप्लाई से पानी दे रहे हैं. लेकिन आउटफील्ड पर हमने एक सप्ताह में केवल दो बार ही पानी दिया है, इसलिए यह थोड़ी सूखी होगी और उम्मीद के मुताबिक हरी नहीं होगी जितनी हम इसे देखना चाहते थे.”

इवान फ्लिंट ने कहा, “हमारे लिए चुनौती यह है, कि हमें विकेट पर घास छोड़नी पड़ेगी, जोकि पतली घास है जिससे इसमें तेजी रहे. लेकिन हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं, कि गेंद इतनी ग्रिप और टर्न नहीं करे.”

“आदर्श रूप से हमें सुबह में थोड़ी बारिश की आवश्यकता है, और फिर दोपहर में थोड़ी धूप की. मुझे नहीं पता कि ऐसा कब होगा. हालाँकि पिच क्यूरेटर फिर भी उम्मीद है, कि वे सख्त उछाल भरी पिच तैयार कर सकते हैं.”

Image result for kohli vs steyn in test
अगर न्यूलैंड्स की पिच पर उछाल नहीं हुआ, तो दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजो के लिए यह बड़ा झटका होगा, जबकि इस ख़बर से भारतीय बल्लेबाज़ काफ़ी खुश होगे. अगर पिच पर उम्मीद के मुताबिक उछाल नहीं हुआ तो भारत को यह टेस्ट जीतने में आसानी हो सकती हैं.

Advertisement