भारतीय तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार पिछले कुछ समय से सिमित ओवर क्रिकेट में दुनिया के सबसे सफ़ल गेंदबाजो में शामिल हो गए हैं. भुवि इन दिनों सोशल मीडिया वेबसाइट ट्वीटर पर अपनी बेटर हाफ़ नुपुर नागर की फ़ोटो शेयर करने की वजह से भी सुर्ख़ियो में हैं.

उत्तरप्रदेश के एक छोटे से गाँव के है भुवनेश्वर कुमार
Image result for bhuvneshwar kumar family photos
भुवनेश्वर कुमार का जन्म 5 फरवरी 1990 के दिन उत्तरप्रदेश के मेरठ में हुआ. भुवनेश्वर के पिताजी किरनपाल सिंह उत्तरप्रदेश पुलिस में सब-इंस्पेक्टर रहे हैं. भुवनेश्वर की माँ इंद्रेश उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर के पास एक छोटे से गाँव की रहने वाली हैं.

भुवनेश्वर कुमार आज एक सफ़ल क्रिकेटर है, जिस सबसे ज्यादा श्रेय वह अपनी बड़ी बहन रेखा को देते हैं. रेखा ही 13 वर्ष की उम्र में पहली बार भुवनेश्वर को क्रिकेट कोचिंग के लिए लेकर गई थी.

Advertisement

बचपन से ही भुवनेश्वर कुमार की क्रिकेट में रूचि रही, हालाँकि पिता पुलिस की व्यस्त नौकारी के कारण भुवनेश्वर की प्रतिभा को नहीं समझ पाए, जबकि माँ को क्रिकेट की बिलकुल भी जानकारी नहीं थी. जिसके बाद उनकी बड़ी बहन रेखा उन्हें पहली बार क्रिकेट स्टेडियम लेकर गई.

Advertisement

क्रिकेट पर ध्यान केन्द्रित रखने के लिए भुवनेश्वर की बहन ने उनके स्कूल की टीचर को भी कह दिया था, कि उनके उपर पढाई को लेकर किसी प्रकार का दवाब न बनाये जाए. भुवि को जब भी कोई क्रिकेट का सामान लेना होता था, तो उनकी बहन रेखा हमेशा साथ जाती थी.

भुवनेश्वर कुमार का अंतराष्ट्रीय करियर

2012 में अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू करने वाले भुवनेश्वर कुमार ने अब तक 18 टेस्ट मैचो में 29.88 की औसत से 45 विकेट हासिल किये हैं. भुवनेश्वर ने वनडे क्रिकेट में 75 मैचो में 36.71 की औसत से 80 विकेट हासिल किये हैं.

अंतराष्ट्रीय टी-ट्वेंटी क्रिकेट में भुवनेश्वर कुमार ने 18 मैचो में 6.83 की बेहद किफ़ायती इकोनोमिक दर से 17 विकेट हासिल किये हैं.

भुवनेश्वर कुमार के यूनिक रिकॉर्ड
Image result for sachin bowled in ranji trophy 2008-09
तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार घरेलु क्रिकेट में उत्तरप्रदेश की टीम के खेलते है, जबकि दुलीप ट्राफी में भुवनेश्वर सेंट्रल ज़ोन के लिए खेलते हैं. तेज गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार ने महज 17 वर्ष की उम्र में बंगाल के विरुद्ध अपना पहला प्रथम श्रेणी मैच खेला था.

वर्ष 2008-09 में रणजी ट्राफी फाइनल में भुवनेश्वर कुमार ने महानतम सचिन तेंदुलकर को शून्य पर आउट हुआ है, भुवनेश्वर ऐसा करने वाले पहले गेंदबाज़ बने थे.

भुवनेश्वर कुमार वर्ष 2016 और 2017 आईपीएल के दौरान लगातार 2 बार सबसे ज्यादा विकेट लेने गेंदबाज़ रहे हैं. आईपीएल में लगातार 2 बार पर्पल कैप जीतने वाले भुवनेश्वर कुमार भारत के एकलौते गेंदबाज़ हैं.

भुवनेश्वर कुमार और उनके परिवार को कुछ अनदेखी फ़ोटो:-

भुवनेश्वर कुमार अपनी बेटर हाफ़ नुपुर नागर के साथ
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
भुवनेश्वर कुमार की दीदी रेखा और जीजाजी अपने 2 बच्चो के साथ
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
मंदिर में दर्शन करते हुए भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
भुवनेश्वर कुमार के पिताजी
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
रेखा दीदी के लड़के जे साथ भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
महिला प्रसंशक के साथ भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
महिला प्रसंशक के साथ भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
दीदी के बच्चो के साथ मस्ती करते हुए भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
भुवनेश्वर के माता-पिता और बहन (बायां फोटो) में, दूसरे फोटो में उनके बहन, पिता और जीजाजी.
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
स्कूल बच्चो के साथ भुवनेश्वर कुमार
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news
जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी के साथ
भुवनेश्वर
छोटे शहर में बीता बचपन, आज स्टार बॉलर बन चुका है सब-इंस्पेक्टर का बेटा, sports news in hindi, sports news

Advertisement